3 फरवरी, आज मेरा जन्मदिन। शिवानी ने आधी रात मुझे उठा कर मेरी नींद खराब तो नहीं की। मगर जब मैं नहाकर जैसे ही बाथरूम से बहार निकल रही थी, वह बाथरूम के दरवाजे पास केक लिए खड़ी थी। मैं इससे पहले कुछ समझ पाती उसने पूरा केक मेरे मुँह पर लगा दिया।

शिवानी: हैप्पी बर्थडे PRIYA, Love you so much

अगर आप साल्ट कहानी पहली बार पढ़ रहे हैं तो इस कहानी को शुरुवात से पढ़ने के लिए यहाँ click करें।

ME: स्टुपिड शिवानी… मैंने तेरे को मार देना है। यह भी कोई wish करने का तरीका होता है। अगर केक मारना ही था तो नहाने से पहले लगाती।

ME: आज तेरी वजह से मैंने लेट हो जाना है। मुझे अब फिरसे नहाना पड़ेगा।

मैं बोली जा रही थी और वह हस्ती रही। और मुझे गले लगाकर बोली।

शिवानी: Chill Priya, आज तो अपना schedule break कर। चल अब नहा ले वरना पूरा दिन मेरे ऊपर चिल्लायेगी।

और मैं नहाने चली गयी।

जब मैं नहाकर आयी तो देखा शिवानी आज मुझसे पहले रेडी होकर खड़ी थी।

शिवानी: Priya, जल्दी से रेडी हो जा, आज breakfast मैंने बनाया है। और सुन जो कपडे बेड पर रखे हैं सिर्फ वही wear करना, वरना फिर केक लगा दूंगी (शिवानी किचन से ज़ोर से बोली)

शिवानी ने मेरे लिए नई ड्रेस ली थी। वाइट टॉप, ब्लैक जीन्स एंड रेड जैकेट। मैंने उसको पहना और breakfast करने आ गयी।

ME: थैंक्स Priya for the gift

शिवानी: अब थैंक्स बोल कर जयादा मैनर्स ना दिखा। आज शाम मुझे पार्टी चाहिए और वह भी GRAND।

ME: हाँ ठीक है बहार डिनर करेंगे आज।

….

ME: शिवानी जल्दी कर, training पर भी जाना है। आज लेट हो गए हैं।

शिवानी: Chill यार… कभी कभी चलता है। हम लोग कोनसा जॉब कर रहे हैं वहां। जस्ट हमारी इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग है।

ME: तू आएगी या मैं जाऊं (गुस्से से बोली )

शिवानी: आ गयी.. चलते हैं बाबा

हम दोनों कंपनी जाने के लिए निकल गए। मुझे क्या पता था की वहां मेरे लिए एक surprise है।

शिवानी ने हमारी पूरी टीम को मेरे बर्थडे का बता दिया था। मेरे batchmates के साथ मिलकर celebrate करने का प्लान किया। सब कुछ था केक, डेकोरेशन। मेरी टीम ने ऑफिस के बाकी टीम्स के मेंबर्स को भी invite किया। सीरियस्ली मेरी लाइफ का बेस्ट बर्थडे था।

एक एक करके सभी लोगों ने मेरे पास आकर मुझे birthday wish किया। शिवानी मेरे साथ ही खड़ी रही। मैं ऑफिस में सबसे मिलने कि बजाये काम करने में लगी रहती थी। इसलिए मैं सबको नहीं जानती थी। शिवानी मुझे सबके साथ introduce करवा रही थी। मैं हैरान थी मुझे अपनी टीम के सभी मेंबर्स के नाम भी नहीं पता थे और शिवानी मेरी टीम के बहार के लोगों को भी अच्छे से जानती थी।

कुछ टाइम के बाद मेरी टीम का लीडर भी मुझे विश करने आया।

Team Leader (TL): Priya, wish you a very happy birthday

ME: थैंक्स सर

TL: शिवानी ने बर्थडे का थोड़ी देर पहले ही बताया था तो तुम्हरे लिए कुछ gift लेने का टाइम नहीं मिला। तुम बताओ क्या गिफ्ट चाहिए।

मेरे कुछ बोलने से पहले शिवानी बोली “सर हम दोनों को आज आफ्टर लंच छुट्टी चाहिए। Priya का boyfriend चंडीगढ़ से स्पेशल आया है बर्थडे के लिए।

ME: नहीं सर, ऐसा कुछ नहीं है। शिवानी मज़ाक कर रही है।

TL: It is ok Priya.. I can understand. it’s your day, so no worries. तुम दोनों आफ्टर लंच जा सकते हो।

मैं कुछ बोलती तभी शिवानी बोली “थैंक्स सर

TL: चलो तुम लोग अब एन्जॉय करो।

और TL चला गया

ME: क्या प्लान है तेरा अब, लीव क्यूँ ली (मैंने शिवानी से पूछा )

शिवानी: अरे यार डिनर नहीं लंच प्लान करते हैं और साथ में मूवी, इसलिए बोला। अब तू कुछ न बोल।

ME: ओके वह तो ठीक है, But Boyfriend। यह कोनसा लॉजिक हुआ है.. कुछ और भी तो बोल सकती थी ना। तेरे को पता है मेरा कोई बॉयफ्रेंड नहीं है।

शिवानी: हाँ यह बात मेरे को पता है मगर TL को नहीं।

ME: यार कुछ गड़बड़ न हो जाये।

शिवानी: कोई गड़बड़ नहीं होगी। तेरे EX की pic जो तूने मोबाइल मैं संभाल कर राखी है उसको दिखा देंगे।

ME: चल छोड़, तेरे को क्या समझाना।

लंच टाइम हम दोनों बहार निकले, हमने बहार लंच किया एंड मूवी देखने के बाद सीधा घर आ गए।

आज काफी थक गए थे। अच्छा हुआ लंच टाइम निकल गए वरना काफी लेट हो जाते। अब हम शाम 7 बजे घर थे।

हाफ ऑवर रेस्ट करने के बाद शिवानी बोली “Priya मैं बहार घूमने जा रही हूँ। थोड़ा लेट हो जाउंगी। डिनर नहीं करुँगी।

ME: शिवानी अभी तो हम घूम कर आए हैं। अब कहाँ चली तू ?

शिवानी: है कोई program, बाद में बताउंगी। अभी लेट हो रही हूँ।

ME: ओके, roughly तो बता कब तक आएगी ?

शिवानी: 10 बजे तक

ME: ओके आ जाना 10 बजे तक

शिवानी: ओके मगर तू इंतज़ार मत करना और टाइम से सो जाना। मैंने घर की चाभी रख ली है।

ME: शिवानी अब डरा मत कि इंतज़ार न करुँ। तू बस टाइम से आ जाना।

शिवानी: ओके टाइम से वापिस आ जाउंगी। फिर भी थोड़ा बहुत ऊपर नीचे हो सकता है। प्लीज इंतज़ार न करना और टाइम से सो जाना।

ME: ठीक है, अपना ख्याल रखना

शिवानी: ओके Priya, bye, Once again Happy Birthday

और शिवानी वहां से चली गई। किसके साथ गयी, कहाँ गयी इसका मुझे कोई आईडिया नहीं था।

रात 10 बज चुके थे और शिवानी अब तक घर नहीं आयी थी। मैंने उसको कॉल किया मगर उसने पिक नहीं किया। ऐसा पहले कभी नहीं हुआ कि मैंने कॉल किया हो और उसने पिक न किया हो।

11 बज रहे थे वह नहीं आयी, मैं कॉल करती जा रही थी। मगर कोई रिस्पांस नहीं मिला। क्या करूँ क्या नहीं कुछ समझ नहीं आ रहा था। मुझे कोई आईडिया भी नहीं था कि वह कहाँ है और किसके साथ है और न मेरे पास किसी का नंबर था जिससे मैं पूछ सकती।

इंतज़ार करने के अलावा मैं कुछ और कर भी नहीं सकती थी, वह इतनी केयरलेस कैसे हो सकती है।

इंतज़ार करते करते मेरी आँख लग गयी।

फ़ोन की रिंग बजने के साथ मेरी आँख खुली, रात को 2 बज रहे थे और शिवानी का कॉल था।

मैंने कॉल पिक किया।

ME: हेलो शिवानी, कहाँ है तू? कबसे तेरे को कॉल कर रही हूँ। तू कॉल पिक क्यों नहीं कर रही थी ?

दूसरी तरफ से आवाज आई: हेलो मैं इंस्पेक्टर दीप बोल रहा हूँ। आपका कॉल इनके मिस कॉल डिटेल्स में था। आप इनका एड्रेस बता दे हम इनको drop कर देंगे। यह बहुत नशे की वजह से बेहोशी की हालत में है।

मैं शॉकेड थी

आगे की कहानी के लिए यहाँ क्लिक करें

साल्ट (SALT) के बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ click करें

इस कहानी को English में पढ़ने के लिए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here